cryptocurrency क्या है 

cryptocurrency

हेलो दोस्तों मैं शिव कुमार आज के अपने इस आर्टिकल में आप सभी का हार्दिक स्वागत करता हूँ। दोस्तों आज मैं अपने इस आर्टिकल के जरिए cryptocurrency क्या है ? what’s the use of it? what’s the objective of it? के बारे में बताने वाला हूँ। तो चलिए शुरुआत करते हैं…

क्रिप्टो करेंसी वित्तीय आदान प्रदान का एक जरिया है। बिल्कुल भारतीय रुपये और अमेरिकी डॉलर के समान, फर्क सिर्फ इतना है कि यह आभाषी है और दिखाई नहीं देती, न ही आप इसे छू सकते हैं। इसलिए इसे डिजिटल करेंसी भी कहते हैं।

Read More:-

cryptocurrency
cryptocurrency

क्रिप्टोकरेंसी इस समय की सबसे गर्म मुद्दा बनी हुई है। दुनिया भर में जहां इसकी लोकप्रियता में इजाफा हुआ है, वहीं भारत में भी इसमें निवेश करने वालों की संख्या बढ़ी है। हालांकि, इस अनियमित बाजार में जोखिम को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार और आरबीआई ने निजी डिजिटल करेंसी पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है और चालू शीतकालीन सत्र में इससे संबंधित बिल पेश होना है। ज्यादातर लोगो मे अब इसके बारे जानने की इच्छा है, तो हम आपको बताते हैं कि आखिर cryptocurrency है क्या और यह किस तरह काम करती है।

सरल भाषा में कहे तो क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल कैश प्रणाली है, जो कम्प्यूटर एल्गोरिदम पर बनी है. यह सिर्फ डिजिट के रूप में ऑनलाइन रहती है. इस पर किसी भी देश या सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है

किसने और कब बनाई और क्यों बनाई?

इस बारे में बताते हैं कि बहुत सारे लोग मानते हैं कि क्रिप्टोकरेंसी 2009 में सतोशी नाकामोतो ने शुरू किया था, लेकिन ऐसा नहीं है. इससे पहले भी कई निवेशकों ने या देशों ने डिजिटल मुद्रा पर काम किया था. यूएस ने 1996 मुख्य इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड बनाया था, ऐसा गोल्ड जिसे रखा नहीं जा सकता था, पर इससे दूसरी चीजें खरीदी जा सकती थी. हालांकि 2008 में इसे बैन कर दिया गया. वैसा ही 2000 की साल में नीदरलैंड ने पेट्रोल भरने के लिए कैश को स्मार्ट कार्ड से जोड़ा था.

क्रिप्टोकरेंसी की कानूनी स्थिति एक देश से दूसरे देश में काफी अलग होती है और अभी भी उनमें से कई में अपरिभाषित है या बदल रही है। कम से कम एक अध्ययन से पता चला है कि अवैध वित्त में बिटकॉइन के उपयोग के बारे में व्यापक सामान्यीकरण काफी हद तक समाप्त हो गए हैं और ब्लॉकचेन विश्लेषण एक प्रभावी अपराध से लड़ने और खुफिया जानकारी जुटाने का उपकरण है। जबकि कुछ देशो ने स्पष्ट रूप से उनके उपयोग और व्यापार की अनुमति दी है, दूसरों ने इसे प्रतिबंधित किया है। कांग्रेस की लाइब्रेरी के अनुसार, आठ देशो में अल्जीरिया, बोलीविया, मिस्र, इराक, मोरक्को, नेपाल, पाकिस्तान और संयुक्त अरब अमीरात: क्रिप्टोकरेंसी के व्यापार या उपयोग पर “पूर्ण प्रतिबंध” लागू होता है।

एक अन्य 15 देशों में “निहित प्रतिबंध” लागू होता है, जिसमें बहरीन, बांग्लादेश, चीन, कोलंबिया, डोमिनिकन गणराज्य, इंडोनेशिया, ईरान, कुवैत, लेसोथो, लिथुआनिया, मकाऊ, ओमान, कतर, सऊदी अरब एवं ताइवान शामिल हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में, उत्तर अमेरिकी प्रतिभूति प्रशासक संघ के माध्यम से समन्वित राज्य और प्रांतीय प्रतिभूति नियामक, 40 न्यायालयों में “बिटकॉइन घोटाले” और ICO की जांच कर रहे हैं।

cryptocurrency क्या है ?

विभिन्न सरकारी एजेंसियो, विभागो एवं अदालतो ने बिटकॉइन को अलग-अलग रूप में वर्गीकृत किया है। चाइना सेंट्रल बैंक ने 2014 की शुरुआत में चीन में वित्तीय संस्थानों द्वारा बिटकॉइन की हैंडलिंग पर रोक लगा दिया था।

हालांकि, रूस में क्रिप्टोकरेंसी कानूनी है, लेकिन वास्तव में रूसी रूबल के अलावा किसी भी मुद्रा के साथ सामान खरीदना गैरकानूनी है। बिटकॉइन पर लागू होने वाले विनियम और प्रतिबंध संभवतः समान क्रिप्टोकरेंसी सिस्टम का विस्तार करते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी रूस, ईरान, या वेनेजुएला के खिलाफ आर्थिक प्रतिबंधो से बचने के लिए एक संभावित उपकरण है। रूस ने गुप्त रूप से पेट्रो (एल पेट्रो) के निर्माण के साथ वेनेज़ुएला का समर्थन किया, एक राष्ट्रीय क्रिप्टोक्यूरेंसी जो अमेरिकी प्रतिबंधों को दरकिनार करके मूल्यवान तेल राजस्व प्राप्त करने के लिए मादुरो सरकार द्वारा शुरू की गई थी। [उद्धरण वांछित]

अगस्त 2018 में, बैंक ऑफ थाईलैंड ने अपनी स्वयं की क्रिप्टोक्यूरेंसी, सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) बनाने की योजना की घोषणा की।[15]

साल 2018 में भारत की सेंट्रल बैंक ने भी क्रिप्टोकरंसी पर ट्रेड करने पर रोक लगा दिया था, और साल 2019 में क्रिप्टो करेंसी को भारत में पूरी तरह से रोक करने के लिए एक ड्राफ्ट तैयार किया गया था। लेकिन मार्च 2020 में भारत की सर्वोच्च न्यायालय ने क्रिप्टो करेंसी पर लगे रोक को पूरी तरह से हटा दिया था।

क्रिप्टो करेंसी के प्रकार


वर्तमान समय में लगभग 1 हजार से अधिक क्रिप्टोकरेंसी मार्केट में उपलब्ध हैं, लेकिन इनमें से कुछ क्रिप्टो करेंसी ऐसी है, जिनका उपयोग सबसे अधिक किया जा रहा है, उनका नाम इस प्रकार है-

बिटकाइन (Bitcoin)

बिटकॉइन दुनिया की सबसे महंगी क्रिप्टोकरेंसी है, मुख्य रूप से इसका उपयोग बड़े-बड़े सौदो में किया जाता है|

सिया कॉइन (Sia Coin)
सिया कॉइन को एससी के नाम से भी जाना जाता है, ग्रोथ करने के मामले में बिटकॉइन के बाद सियाकॉइन का नंबर आता है |

लाइटकॉइन (Lite Coin)


लाइटकॉइन का अविष्कार वर्ष 2011 में चार्ल्स ली द्वारा किया गया था, यह क्रिप्टोकरेंसी भी बिटकॉइन की तरह ही हैं, जो कि डीसेंट्रलाइज्ड भी हैं और साथ ही पीर टू पीर टेक्नोलॉजी के तहत कार्य करती हैं |

cryptocurrency क्या है ?

डैश (Dash)


यह दो शब्दो डिजिटल और कैश को मिलकर बनाया गया है | इस क्रिप्टोकरेसी को बिटकॉइन की तुलना मे अधिक विशेषताओ के साथ शुरू किया गया है | अन्य क्रिप्टोकरेसी की अपेक्षा इसमे सुरक्षा को अधिक महत्व दिया जाता है | इसमे एक विशेष प्रकार की एल्गोरिथम और टेक्नोलॉजी का प्रयोग किया जाता है |

रेड कॉइन (Red Coin)

रेड कॉइन एक ऐसी क्रिप्टो करेंसी है, जिसका उपयोग विशेष अवसरो पर लोगो को टिप देने के लिए किया जाता है।

एसवाईएस कॉइन (SYS Coin)


एसवाईएस कॉइन एक ऐसी क्रिप्टो करेसी हैं, जो अन्य क्रिप्टो करेंसी की अपेक्षा बहुत ही तेज गति से कार्य करती है | मुख्य रूप से इसका प्रयोग पैसो के लेनदेन मे जैसे संपत्ति को खरीदने या बेचने आदि मे किया जाता है | एसवाईएस कॉइन, बिटकॉइन का एक भाग है जो डीप वेब मे कार्य करता है।

ईथर और ईथरम (Ether Or Etherm)


इस करेंसी का उपयोग इंटरचेज करेंसी के रूप में किया जाता है | यह एक प्रकार का टोकन होता है, जिसका उपयोग ईथरम ब्लाक चैन के अंतर्गत आदान प्रदान के लिए किया जाता है |

मोनेरो (Monero)


मोनेरो एक अलग तरह की क्रिप्टोकरेंसी है, जिसमें एक विशेष प्रकार की सिक्यूरिटी का प्रयोग किया जाता है, जिसे रिंग सिग्नेचर का नाम दिया गया है | इसका सबसे अधिक प्रयोग डार्क वेब और ब्लॉक मार्केट मे किया जाता है | इस करेसी की सहायता से स्मगलिग, ब्लैक मार्केटिग आदि की जाती है |

CryptoCurrency के फायदे

अब चलिए कुछ CryptoCurrency के फ़ायदो के बारे मे जानते हैं :-

  • Cryptocurrency में fraud होने के chances बहुत ही कम हैं.
  • Cryptocurrency की अगर बात की जाये तो ये normal digital payment से ज्यादा secure होते हैं
  • इसमें transaction fees भी बहुत है कम है अगर हम दुसरे payment options की बात करे तब
  • इसमें account बहुत ही secure होते हैं क्यूंकि इसमें अलग अलग प्रकार के Cryptography Algorithm का इस्तमाल किया जाता है

Cryptocurrency के नुकसान

अब चलिए कुछ CryptoCurrency के नुकसान के बारे मे जानते है :-

  • Cryptocurrency मे एक बार transaction पूर्ण हो जाने पर उसे reverse कर पाना असंभव होता है क्यूंकि इसमे वैसे कोई options ही नही होती है.
  • अगर आपका Wallet के ID खो जाती है तब वो हमेशा के लिए खो जाती है क्यूकि इसे दुबारा प्राप्त करना संभव नही है. ऐसे में आपके जो भी पैसे आपके wallet में स्तिथ होते है वो सदा के लिए खो जाते है.

हमें उम्मीद है की यह ब्लॉग पोस्ट पढ़ के आपके सवाल cryptocurrency क्या है ? इसका जवाब आपको आसानी से मिल गया होगा।

cryptocurrency क्या है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.